सोमवार 12 बजे के बाद कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल की सेवा शुरू हो जाएगी

वादी में सुधरते हालात के मद्देनजर राज्य प्रशासन ने पोस्टपेड मोबाइल शुरु करने का एलान कर दिया है। सोमवार 14 अक्तूबर को वादी में बीते दो माह से बंद पड़ी सभी कंपनियों की पोस्टपेड माेबाइल सेवा दोपहर 12 बजे के बाद बहाल कर दी जाएगी। राज्य सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने इसका एलान करते हुए कहा कि हालात में सुधार को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। इस संदर्भ में सभी संबधित कंपनियों को भी सूचित कर दिया गया है। सोमवार की दोपहर 12 बजे के बाद हालात के अनुकूल रहने पर मोबाइल सेवा को बहाल कर दिया जाएगा।

वहीं कश्मीर घाटी में मोबाइल फोन सेवा ठप रहने से भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) को काफी फायदा हुआ है। बीते दो माह के दौरान घाटी में बीएसएनएल ने 14 हजार नए उपभोक्ताओं को लैंडलाइन सेवा प्रदान की है।

पांच अगस्त से पहले वादी में बीएसएनएल की लैंडलाइन सेवा के लगभग 50 हजार उपभोक्ता थे। इनमें से 16 हजार ही घरेलू उपभोक्ता थे, जो अब करीब 30 हजार हो गए हैं। वादी में लैंडलाइन फोन सेवा बहाल होने और मोबाइल फोन बंद होने से लोगों ने एक बार फिर अपने घरों में लैंडलाइन फोन सेवा हासिल करने के लिए बीएसएनएल कार्यालय में आवेदन शुरू कर दिए। कईयों ने बंद पड़े लैंडलाइन फोन को बहाल कराने के लिए वर्षों से लंबित किराया भी जमा कराया। कई लोगों ने अपने मोबाइल फोन उपलब्ध होने के बाद अपने घरों में लैंडलाइन सेवा को बंद करा दिया था।

बीएसएनएल के एक अधिकारी ने बताया कि अगस्त के अंत से लेकर अक्टूबर शुरू होने तक वादी में हमारे विभाग ने करीब 14 हजार नए लैंडलाइन कनेक्शन जारी किए हैं। श्रीनगर समेत वादी के सभी प्रमुख शहरों व कस्बों में बड़ी संख्या में लोग लैंडलाइन कनेक्शन के लिए आवेदन कर रहे हैं। पूरी वादी में हमारा एक विशाल नेटवर्क है। हरेक शहर और कस्बे में हमारी एक्सचेंज और मोबाइल फोन टावर हैं। इसका हमें फायदा हो रहा है। हालांकि अभी इंटरनेट सेवा बंद है, लेकिन बहुत से आवेदकों ने लैंडलाइन फोन के साथ ही ब्राडबैंड सुविधा के लिए भी आवेदन कर रखा है।

लालचौक में स्थित बीएसएनएल कार्यालय से सटी गली में रहने वाले मीर यूसुफ ने बताया कि हमने सिर्फ दुकान में ही बीएसएनएल की लैंडलाइन रखी थी। घर का लैंडलाइन फोन करीब चार साल पहले कटवा दिया था। हमने करीब 15 दिन पहले दोबारा अपने घर के लिए कनेक्शन हासिल किया है। वर्ष 2010 और 2016 और बीते दो माह के अनुभव ने हमें सिखा दिया है कि कश्मीर में लैंडलाइन फोन सेवा और ब्राडबैंड जरूरी है। मोबाइल फोन और मोबाइल पर इंटरनेट सेवा यहां अकसर बंद कर दी जाती है। लैंडलाइन फोन सेवा ही हर बार सबसे पहले बहाल होती है। उसके बाद ब्राडबैंड सेवा। वादी में कोई और लैंडलाइन सेवा देने वाली कंपनी नहीं है। निजी कंपनियों की सेवाएं बीएसएनएल की सेवा के बाद ही शुरू होती हैं।

You might also like More from author

Leave a Reply

%d bloggers like this: