कठिन ट्रेनिंग और पढ़ाई के बाद भारतीय सैन्य अकादमी की मुख्य धारा में शामिल हुए 65 कैडेट

देहरादून। भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) स्थित आर्मी कैडेट कॉलेज (एसीसी) की 113 वीं ग्रेजुएशन सेरेमनी में 65 कैडेटों को जेएनयू की डिग्री से सम्मानित किया गया। एसीसी में तीन साल की कठिन ट्रेनिंग और पढ़ाई के बाद यह कैडेट आइएमए की मुख्यधारा से जुड़ गए हैं। अब एक साल ट्रेनिंग के बाद सेना में बतौर अधिकारी के रूप में शामिल हो जाएंगे।

सिपाही के रूप में फौज में भर्ती हुए देशभर के 65 युवाओं ने शुक्रवार को तरक्की की उड़ान भरी। वर्षों से सेना में अफसर बनने का सपना संजोए कैडेट लगन और मेहनत के बूते मुकाम तक पहुंच गए हैं। अब आइएमए में एक साल अफसर की ट्रेनिंग लेने के बाद यह अगले साल होने वाली पीओपी में अफसर पद की शपथ लेंगे।

आइएमए के कमाडेंट (लेफ्टिनेंट जनरल) एसके झा ने आर्मी कैडेट कॉलेज के इन 65 कैडेट्स को जेएनयू (जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी) से स्नातक की उपाधि व अवार्ड दिए। डिग्री पाने वालों में 29 साइंस और 36 कैडेट्स ह्यूमिनिटीज स्ट्रीम के हैं। कॉलेज से पासआउट होने के बाद यह कैडेट आइएमए में एक साल का प्रशिक्षण लेंगे। कमांडेंट ले.ज.एसके झा ने अफसर बनने की राह पर अग्रसर जेंटलमेन कैडेट्स को उच्च्वल भविष्य की शुभकामनाएं दीं।

उन्होंने कैडेट्स को याद दिलाया कि एसीसी ने देश को बड़ी संख्या में ऐसे जांबाज अफसर दिए हैं, जिन्होंने अपनी क्षमता के बलबूते कई पदक जीते।कहा कि उनके सामने कई चुनौतियां होंगी, मगर देश की आन, बान और शान बनाए रखने की जिम्मेदारी अब उनके हाथों में होगी। इस मौके पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कैडेटों को बधाई देते कहा कि वह अपने प्रदर्शन में निरंतरता बनाए रखें। कमान्डेंट ने अभिभावकों को भी बधाई दी। इससे पहले एसीसी के प्रिंसिपल डा नवीन कुमार ने कॉलेज की प्रगति रिपोर्ट पेश की।एसीसी विंग के कमांडर ब्रिगेडियर वीएम चौधरी ने आइएमए कमान्डेंट का स्वागत किया।

इनको मिला अवार्ड

  • चीफ आफ आर्मी स्टाफ मेडल
  • कैडेट—-मेडल
  • गोल्ड मेडल गौतम
  • सिल्वर मेडल अजीत सिंह कटाल
  • ब्रांज मेडल लक्ष्मण दास
  • कमान्डेंट बैनर कारगिल कंपनी
  • कमाडेंट्स सिल्वर मेडल
  • सर्विस सब्जेक्ट्स गौतम
  • ह्यूमिनिटीज स्ट्रीम चंदन कुमार सिंह
  • साइंस स्ट्रीम गौतम

You might also like More from author

Leave a Reply

%d bloggers like this: