कांमिनी खन्ना के टॉप ज्योतिष टिप्स

Astrolgy Tips By Kamini Khanna

जय जीवदानी
ज्योतिष आपकी निजी जिंदगी के साथ किस हद तक जुड़ा होता है इसका उदाहरण आप रोजमर्रा के हादसे घटनाये और समय के बदलाव से जान सकते है ढाई दिन एक घर में रहनेवाला चंद्रमा उथल पुथल भी मचा सकता है और फिर चंद्रमा के राशि बदलते ही सब कुछ शांत।
नक्षत्र ,होरा,आपके जीवन में रोज एक नया रंग लेकर आते है।कई बार वोही घटनाएं बार बार होती हैं और कई बार सूक्ष्म बदलाव आते हैं।
उदाहरण के लिए —इन दिनों उच्च के बुध हुए और सूर्य मंगल के साथ सिंह राशि में चल रहे हैं।जिसके चलते राजनीतिक बदलाव और छोटे लेवल पे देखो तो सरकारी कामों में गति,वृद्धि।
कामों में प्रखर उत्साह, मेहनत, सही सोच ,ऐसी कई बातों ने रूप रंग लिया है।जिनके लग्नेश ,तृतीयेश,पंचमेश, भाग्येश, लाभेश, सूर्य रहे होंगे उनको आती 30 तारीख तक सभी प्रकार के सरकारी कामों में भाग्य आजमाना चाहिये।कोर्ट कचहरी के काम निपटा लेने चाहिए या इसके उलट अचानक से काम बनते जाना ये भी संभव है।इन्क्रीमेंट ,पदोन्नति,शुभ यात्राएं,यात्राओंसे लाभ,या फिर जिस घर पर इन ग्रहोका प्रभाव हो उनसे सम्बंधित चीजोंसे लाभ।मैंने मेरे चैनल you tube/ beauty with astrology पर इनसे संबंधित वीडियोस में इन प्रभावों की चर्चा की है।इसी प्रकार उच्च के बुध के कारण अचानक बुद्धि परिवर्तन,व्यावसायिक लाभ,वाक शक्तिसे उन्नति,बुद्धि चातुर्यसे उन्नति,सम्मान,अवार्ड्स जो एक महीना पहलेसे ही निर्धारित हुए।इसका मतलब आनेवाले ग्रह अपनी भूमिका पहलेसेही ही निश्चित करवा देते है।घरों में साजसज्जा प्रकल्प,वाहन आदि खरीदना,कार्य में लोहा मनवाना,मनःशांति मिलना ,यात्राओ में आनंद आना,ऐसे कई प्रकारके शुभ असर अपने आप शुरू हो जाते है।मज़ेदार बात ये है कि एक तरफ वक्री शनि केतु की अशुभता का असर भी फीका पड़ जाता है,और नपुंसक माना जानेवाला बुध अपनी कुमार अवस्था में शीघ्र परिणाम देता है।इसी प्रकार सूर्य अपनी बाल्य अवस्था में मृदु,यौवन में प्रखर,और बुढ़ापे में कमजोर हो जाता है।अर्थात महीने की 13 से 17 के बीच बदलनेवाला सूर्य महिनेके अंत 30 तारीख़ तक पूर्ण प्रभाव देता है।
क्या ये मज़ेदार बात नही की जैसे किसी व्यक्ति को कोई अवार्ड मिलनेवाला है, तो ग्रह के राशि परिवर्तनसे से काफी दिनों पहले उसकी रूप रेखा बन जाती है।कहा जाता है गुरु, शनि राशि परिवर्तन का प्रभाव दो महीने पहलेसे देते है,मेरे अनुसार हर ग्रह अपनी चाल के काफी पहले आपके भविष्य को सुनिष्चित कर देता है,और फिर ज्योतिषी भविष्य कथन कर पाते हैं।
मोटा मोटा गोचर के ग्रहों का आंकलन ,उनका नक्षत्र प्रवेश और दशा महादशा के आधार पर बहोत कुछ कथित हो सकता है।
आगे हरि इच्छा प्रबल होती है।
और कर्म भाग्य बदल सकते है।
मैं कर्म की शक्ति को नमन करती हूं।
मैं कृष्ण की अनुगामिनी हू।
और महामाया ,आदिशक्ति जीवदानी की भक्त।
सभी प्रकार के भविष्य और योगोंसे ऊपर होता है”कृपा योग”।
जय जीवादनी🙏
जय श्री कृष्ण🙏
कामिनी खन्ना😊🕉

You might also like More from author

Leave a Reply

%d bloggers like this: